Wednesday, October 26, 2011

लो आ गई दीपावली















रौशन  ज़मी,        पर कहकशां,       जज़्बों पे है,     दीवानगी
हर सिम्त से,      इक शोर है,       लो आ गई,      दीपावली

है ऐ  दुआ,       लब पर मिरे,      बदले न ऐ,     मंज़र कभी
जलते  रहें,       दीपक  सदा,         क़ाइम  रहे,     ये रौशनी

है  रोज़ कब,        होती  यहाँ,         ईदे  चरागाँ   यार  अब
उठ कर मिलो,     हम से गले,      छोडो ज़रा,        बेरुखी

कहते सभी,       हैं डाक्टर,        मत खाइये,      है  ऐ मुज़िर
इतनी  मिठाई  देख  कर,           काबू  रखें,       कैसे  अजी


ऐ मालिके,         दोनों जहां,      चमके मिरा,       हिन्दोसिता
बढ़ता रहे ,          फूले फले,       बिखरी रहे ,    हर सू ख़ुशी

दीपक  अजी,       शेर  हैं,       याराने   महफ़िल   लीजिये
अजमल  ने  भेजी  नज्र  है,      क़ाइम   रहे,       ये  दोस्ती


ज़मी-ज़मीन(धरती),   कहकशां-आकाश गंगा,    जज़्बों पे-भावनाओ  पे, 
 हर सिम्त से- सभी दिशाओ से,    मंज़र-द्र्श्य,       ईदे  चरागाँ - दीपो का त्योहार,       मुज़िर - नुक़्सानदेह,
हर सू-सभी जगह,   याराने  महफ़िल-सभा मे उपस्थित सभी लोग,    
   
 नज्र- तोह्फा,  क़ाइम   रहे- हमेशा स्थिर रहे,



31 comments:

  1. (ये गज़ल "सुबीर सम्वाद सेवा" के दीपावली के, तरही मुशायरे के लिये लिखी गई है और ये मुशायरे मे शामिल भी है.)

    आप सभी को दीपावली की बहुत बहुत हार्दिक बधाईया और शुभ कामनाये.................

    ReplyDelete
  2. प्रिय बंधुवर अजमल खान जी
    नमस्कार !

    अच्छी ग़ज़ल के लिए बधाई !


    ऐ मालिके,दोनों जहां , चमके मिरा,हिन्दोसिता
    बढ़ता रहे,फूले फले,बिखरी रहे,हर सू ख़ुशी।

    हासिले-ग़ज़ल शे'र है , वाह ! क्या कहने !

    आपको और परिवारजनों को दीवाली की हार्दिक मंग़लकामनाएं !


    सरस्वती आशीष दें , गणपति दें वरदान !
    लक्ष्मी बरसाए कृपा , बढ़े आपका मान !!


    - राजेन्द्र स्वर्णकार

    ReplyDelete
  3. बहुत सुन्दर रचना है!
    --
    प्रेम से करना "गजानन-लक्ष्मी" आराधना।
    आज होनी चाहिए "माँ शारदे" की साधना।।

    अपने मन में इक दिया नन्हा जलाना ज्ञान का।
    उर से सारा तम हटाना, आज सब अज्ञान का।।

    आप खुशियों से धरा को जगमगाएँ!
    दीप-उत्सव पर बहुत शुभ-कामनाएँ!!

    ReplyDelete
  4. बेहतरीन रचना, आपको परिवार एवम स्नेहीजनों सहित दीपावली की बधाई व घणी रामराम.

    रामराम

    ReplyDelete
  5. बहोत ही सुंदर पोस्ट.............
    आपको भी दीपावली की शुभकामनाएँ

    ReplyDelete
  6. दीपावली का ये पावन त्‍यौहार,
    जीवन में लाए खुशियां अपार।
    लक्ष्‍मी जी विराजें आपके द्वार,
    शुभकामनाएं हमारी करें स्‍वीकार।।

    ReplyDelete
  7. सुख औ’ समृद्धि आपके अंगना झिलमिलाएँ,
    दीपक अमन के चारों दिशाओं में जगमगाएँ
    खुशियाँ आपके द्वार पर आकर खुशी मनाएँ..
    दीपावली पर्व की आपको ढेरों मंगलकामनाएँ!

    -समीर लाल 'समीर'

    ReplyDelete
  8. ऐ मालिके, दोनों जहां, चमके मिरा, हिन्दोसिता
    बढ़ता रहे , फूले फले, बिखरी रहे , हर सू ख़ुशी

    bahut khoob !
    aap ki duaon men hamaree duaaen bhi shamil hain

    ReplyDelete
  9. अजमल जी सुबीर संवाद जी के दिए मिसरे पे आपने भी अच्छी ग़ज़ल लिखी .....
    ख़ास कर ये शेर अच्छा लगा ...
    ऐ मालिके,दोनों जहां , चमके मिरा,हिन्दोसिता
    बढ़ता रहे,फूले फले,बिखरी रहे,हर सू ख़ुशी।

    बधाई ....!!

    ReplyDelete
  10. सराहनीय लेखन........
    +++++++++++++++++++
    चिठ्ठाकारी के लिए, मुझे आप पर गर्व।
    मंगलमय हो आपको, सदा ज्योति का पर्व॥
    सद्भावी-डॉ० डंडा लखनवी

    ReplyDelete
  11. है ऐ दुआ, लब पर मिरे, बदले न ऐ, मंज़र कभी
    जलते रहें, दीपक सदा, क़ाइम रहे, ये रौशनी ।
    bahut sundar gazal hai,waah kya bhav hai.
    saare sher achche lage.!!!!!!!!
    happy diwali!!!!!!!1

    ReplyDelete
  12. अजमल साब,
    आदाब!
    इन्श'अल्लाह!
    आशीष
    ---
    पहला ख़ुमार और फिर उतरा बुखार!!!

    ReplyDelete
  13. ऐ मालिके,दोनों जहां , चमके मिरा,हिन्दोसिता
    बढ़ता रहे,फूले फले,बिखरी रहे,हर सू ख़ुशी।
    और ये भी
    है ऐ दुआ, लब पर मिरे, बदले न ऐ, मंज़र कभी
    जलते रहें, दीपक सदा, क़ाइम रहे, ये रौशनी ।

    कमाल के शेर हैं । वैसे बहुत सुंदर गज़ल ।

    ReplyDelete
  14. bahut hi sundar rachna. shubkamnaye

    ReplyDelete
  15. अजमल साब आपकी यह ग़ज़ल मुशायरे मे ही पढ़ी थी.और गज़ल किसी खूबसूरत गुलदस्ते सी लगी थी..जिसका हर फूल अपनी अलग छटा और खुशबू बेखरता नजर आता हो..ढेर सारे रंग एक साथ इसमे समा कर जैसे एकसार हो गये हों..खुशी का रंग, हँसी का रंग, दुआ का रंग, प्यार का रंग..सब. खासकर मिसरों मे ’अजी’, ’ऎ’, ’यार’ जैसे संबोधन देने से एक खास इन्फ़ार्मल सा अहसास आ जाता है..और भी खूबसूरत लगा.और मुझे तो यह शेर पढ़ कर खास ही मजा आया
    कहते सभी, हैं डाक्टर,मत खाइये, है ऐ मुज़िर
    इतनी मिठाई देख कर,काबू रखें, कैसे अजी ।

    सच त्योहारों का मजा जी को काबू मे रखने मे नही बल्कि खोलने मे ही है..

    ReplyDelete
  16. बहुत ही खूबसूरत ग़ज़ल कही है आप ने.
    किसी एक की क्या तारीफ़ की जाए .मुझे तो हर शेर खास लगा.
    बहुत उम्दा .

    ReplyDelete
  17. bahut achhi hai aap ki gazal.
    ab nayi post lagaiye deewali to kab ki beet gayii.

    ReplyDelete
  18. ऐ मालिक ए दोनों जहां , चमके मेरा हिन्दोस्ताँ
    बढ़ता रहे, फूले-फले, बिखरी रहे हर सू ख़ुशी

    बहुत ही शानदार
    और
    कामयाब ग़ज़ल .... वाह !!

    ReplyDelete
  19. आपको गणतंत्र दिवस की बहुत-बहुत बधाई और शुभकामनाएं
    वन्दे मातरम्

    ReplyDelete
  20. Gazal to shaandaar haihi...haath kangan ko aarasi kaisi?
    Lekin bade din hue aapne aur kuchh likha nahee blog pe? Aisa kyon?

    ReplyDelete
  21. हमें तो आज शर्म महसूस हुयी ..भारत की जीत की ख़ुशी उड़ गयी ... आपकी नहीं उडी तो आईये उड़ा देते है.
    डंके की चोट पर

    ReplyDelete
  22. बहुत ही उम्दा गजल है - आभार
    akashsingh307.blogpot.com

    ReplyDelete
  23. बहुत अच्छी पोस्ट, शुभकामना, मैं सभी धर्मो को सम्मान देता हूँ, जिस तरह मुसलमान अपने धर्म के प्रति समर्पित है, उसी तरह हिन्दू भी समर्पित है. यदि समाज में प्रेम,आपसी सौहार्द और समरसता लानी है तो सभी के भावनाओ का सम्मान करना होगा.
    यहाँ भी आये. और अपने विचार अवश्य व्यक्त करें ताकि धार्मिक विवादों पर अंकुश लगाया जा सके.,
    मुस्लिम ब्लोगर यह बताएं क्या यह पोस्ट हिन्दुओ के भावनाओ पर कुठाराघात नहीं करती.

    ReplyDelete
  24. व्यस्तता के कारण देर से आने के लिए माफ़ी चाहता हूँ.

    आप मेरे ब्लॉग पे पधारे इस के लिए बहुत बहुत धन्यवाद् और आशा करता हु आप मुझे इसी तरह प्रोत्सन करते रहेगे
    दिनेश पारीक

    ReplyDelete
  25. बहुत अच्छी गजल .बधाइयाँ ....

    ReplyDelete
  26. कृपया मेरे ब्लॉग पर भी आए

    ReplyDelete